मुख पृष्ठ » ग्राहक सेवाएं » एन.आर. आइ. सेंटर
एन.आर. आइ. सेंटर

एन.आर. आइ. सेंटर

 

अनिवासी भारतीय केंद्र में आपका स्वागत है. हमने यहाँ उन महत्वपूर्ण सुविधाओं के बारे में जानकारी देने का प्रयास किया है जो अनिवासी भारतीयों और भारतीय मूल के उन लोगों पर लागू होती हैं जिन्हें विदेशी राष्ट्रीयता प्राप्त है और जो विदेशों में रह रहे हैं.

विषय के तकनीकी भाग में जाने से पहले हम चाहेंगे कि आप बीमा की अवधारणा को स्पष्ट रूप से समझ लें; उचित पॉलिसी प्रकार को पहचान लें पॉलिसी के प्रीमियम स्वरूप को जान लें और यदि हमारी विभिन्न बीमा योजनाओं को लेकर आपकी कोई भी शंका हो तो अपने एजेंट या एलआईसी शाखा कार्यालय के माध्यम से उसे दूर कर लें.

बीमा योजनाओं के विभिन्न प्रकार की संकल्पना:

जीवन की जोखिम से सुरक्षा जैसे किसी आकस्मिक घटना मान लीजिए मृत्यु, बीमारी या दुर्घटना के कारण विकलांगता आदि की स्थिति में परिवार के लिए वित्तीय सुरक्षा करना ही बीमे का मुख्य उद्देश्य होता है. परंतु, इसे 'अनिवार्य बचत' के रूप में भी देखा जा सकता है जो धन जमा करने के लिए की जाती है जिसका उपयोग बच्चों की पढ़ाई/शादी के लिए, वृद्धावस्था के लिए, घर बनाने इत्यादि के लिए किया जा सकता है. विभिन्न प्रकार की ऋण सुविधाएँ जैसे गृह निर्माण ऋण लेते समय पॉलिसीज़ को आयकर से छूट प्राप्त होती है और ये वित्तीय संस्थाओं को संपार्श्विक प्रतिभूति के रूप में असाइन होती हैं. लोगों की विभिन्न सामाजिक-आर्थिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एलआईसी आपके लिए ४० योजनाएँ लाया है जिसमें लाइफ़ पॉलिसीज़, सुनिश्चित अवधि एंडोमेंट पॉलिसीज़, ज्वाइंट लाइफ़ पॉलिसीज़, उत्तरजीविता लाभ कहे जाने वाले समय-समय पर एकमुश्त भुगतानों के प्रावधान वाली मनी बैक पॉलिसीज़, टर्म बीमा पॉलिसी जिसमें कम प्रीमियम पर अधिक ज़ोखिम कवर होता है, पेंशन योजनाएँ, चिल्ड्रन योजनाएँ, यूनिट लिंक्ड योजनाएँ जो आपको पूँजी बाज़ार में निवेश करने अवसर प्रदान करेगी, आदि शामिल हैं.

हमारी हर योजना की विशेषताओं में सुनिश्चित लाभ है. चयन आपकी आवश्यकताओं पर निर्भर करता है. योजना की जानकारी 'उत्‌पाद-बीमा योजनाएं' के अंतर्गत उपलब्ध होती है. पहचान के उद्देश्य से प्रत्येक योजना को एक तालिका नंबर दिया गया है. उदाहरण के लिए तालिका १४ एंडोमेंट योजना की जानकारी के लिए रखी गई है जो भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय है.

प्रीमियम की गणना:

एक या दो योजनाओं को एक बार चयन करने के बाद, आप प्रीमियम राशि जानना और गणना करना शुरू कर सकते हैं. इसके लिए आपको पॉलिसी की अवधि, बीमा राशि, प्रीमियम के भुगतान की प्रणाली (वार्षिक, अर्द्धवार्षिक, त्रैमासिक या मासिक) और आप अतिरिक्त लाभ जैसे दुर्घटना पर लाभ चाहते हैं या नहीं यह निश्चित करना होगा. आप अपनी पसंद की पॉलिसी के प्रीमियम की राशि के भुगतान के संबंध में जानकारी के लिए आप 'टूल्‌स - प्रीमियम गणक' विकल्प पर जा सकते हैं. उसके बाद, आपको वांछित प्रकार की पॉलिसी प्राप्त करने के लिए पूरी की जाने वाली औपचारिकताओं के बारे में जानना होगा.

बीमा पॉलिसी लेने के लिए आवश्यकताएँ:

निर्धारित प्रस्ताव फ़ॉर्म (अधिकांश मामलों में फ़ॉर्म नं. ३००) जमा करना मुख्य आवश्यकता होती है. प्रस्तावक का स्वास्थ्य निर्धारित करने में चिकित्सा रिपोर्ट की आवश्यकता हो सकती है. जोखिम के मूल्यांकन के लिए आयु और आय प्रमाणपत्र, एजेंट का अनुशंसा पत्र, विकलांगता या गंभीर बीमारी की स्थिति में विशेष रिपोर्ट्स आदि आवश्यक है. इस प्रक्रिया को 'जोखिम आंकलन' कहा जाता है और इसका उपयोग भारत में प्रस्ताव फ़ॉर्म और संबंधित दस्तावे ज़ों में बताए गए तथ्यों के आधार पर किया जाता है. यदि प्रस्तावित जीवन स्वीकार किया जाता है और प्रथम प्रीमियम के रूप में पर्याप्त राशि प्राप्त हो जाती है, तो स्वीकृति पत्र प्रस्तावक को भेज दिया जाएगा और पॉलिसी बॉण्ड उचित समयावधि में जारी कर दिया जाएगा.
इस समय, आपको लगेगा कि यह मामला जटिल है और इसमें एजेंट की सहायता/ मार्गदर्शन आवश्यक है. हाँ, इसीलिए हम आपको यह सलाह अवश्य देंगे कि भारत में किसी ऐसे एजेंट की सहायता लें जो आपकी सहायता और मार्गदर्शन कर सके. आप किसी प्रभागीय/ शाखा कार्यालय से भी मदद प्राप्त कर सकते हैं जिसका पता आप मुख्य पृष्ठ पर दिखाई देने वाले लोकेटरज् विकल्प से प्राप्त कर सकते है. अब चलिए और जानकारी के लिए विषय में प्रवेश करते है.

अनिवासी भारतीयः

  1.  अनिवासी भारतीय भारत का वह नागरिक हैं जो अस्थाई रूप से अन्य देश मे निवास कर रहा है और जिसके पास भारत सरकार द्वारा जारी किया गया वैध पासपोर्ट होता है.
  2. अनिवासी भारतीय ग्रीन कार्ड धारक नहीं हो सकते. वह निकट भविष्य में अपने वर्तमान देश या अन्य देश की नागरिकता पाने के लिए आवेदन नहीं दे सकते या इसकी योजना भी नहीं बना सकते.
  3. यह स्पष्ट है कि भारतीय मूल के लोग जिनके पास विदेशी राष्ट्रीयता है और जो विदेश में रहते हैं उन लोगों को बीमा के उद्देश्य से अनिवासी भारतीय नहीं माना जाता. भारतीय मूल के लोगों पर लागू होने वाले नियम अंतिम अनुच्छेद में दिए गए हैं.
  4. पॉलिसी केवल भारतीय मुद्रा में ही जारी की जाएगी. हमारी शाखाएँ और संयुक्त उपक्रम कंपनियाँ (विवरण के लिए मुख्य पृष्ठ पर सहायकज् विकल्प देखें) उनकी स्थानीय मुद्रा में ही पॉलिसी जारी करती है. उदाहरण के लिए यू. के. की शाखा पॉलिसी को पाउंड मुद्रा में जारी करेगी.
  5. यदि बीमे की सभी औपचारिकताएँ अनिवासी भारतीयों ने भारत में रहते हुए पूर्ण की हैं तो उनका यह बीमा उनकी भारत यात्रा पर स्वीकृत होता है. ऐसे मामलों में बीमा की अनुमति देने के लिए उन्हें भारतीयों जैसा ही माना जाएगा.
  6. यदि उसकी सभी औपचारिकताएँ वर्तमान देश में रहकर पूर्ण कर दी गई हैं तो अनिवासी भारतीय अपने वर्तमान देश में भी बीमे की राशि प्राप्त कर सकते हैं और इस प्रक्रिया को 'डाक आदेश व्‌यापार' कहा जाता है.
  7. न्यूनतम बीमा राशि २ लाख रुपए होगी और अधिकतम बीमे की शर्तों पर निर्भर होती है. हालाँकि, डाक आदेश व्यापार के अंतर्गत, अधिकतम बीमा राशि की सीमा एक करो ड़ रुपए है.
  8. यदि बीमा राशि अधिक है या यदि प्रस्ताव डाक आदेश व्यापार द्वारा जमा किया गया है, तो निजी वित्तीय प्रश्नावली (पीएफक्यू) और/या आयकर वापसी फ़ॉर्म में आय का प्रमाण, रो ज़गार अनुबंध की प्रतिलिपि जिसमें कर्मचारी के वेतन का उल्लेख होता है, चार्टर्ड अकाउंटेंट का प्रमाणपत्र आदि आवश्यक होगा.
  9. सभी प्रकार की योजनाओं की शर्तों के अधीन अनुमति होती है
    1. गंभीर बीमारी लाभ नहीं मिलता है.
    2. टर्म राइडर लाभ, बीमा राशि की निश्चित सीमा तक प्रतिबंधित होगा.
    3. सावधि बीमा योजानाओं के अंतर्गत बीमा राशि प्रतिबंधित होगी.
  10. अनिवासी भारतीय निश्चित प्रतिबंधों के अधीन हमारी नॉन-मेडिकल (विशेष) योजना के तहत बीमा सुरक्षा प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें से कुछ प्रतिबंध निम्न हैं:
    1. यदि बीमा भारत यात्रा के दौरान या एलआईसी एजेंट द्वारा के आवश्यक औपचारिकताओं की पूर्ति हेतु अनिवासी भारतीय के देश की यात्रा के दौरान डाक आदेश व्यापार द्वारा कराए जाने पर लागू.
    2. प्रवेश के लिए अधिकतम आयु ४५ वर्ष होगी.
    3. अधिक रिस्क कवर वाली योजनाएँ और टर्म राइडर लाभों की अनुमति नहीं होगी.
    4. प्रस्तुतकर्ता को किसी सरकारी या प्रतिष्ठित व्यावसायिक फ़र्म का कर्मचारी या पेशेवर व्यक्ति जैसे चार्टर्ड अकाउंटेंट, चिकित्सक, शिक्षक, वकील, अकाउंटेंट, इंजीनियर आदि होना चाहिए.
  11. 'डाक आदेश व्‌यापार' के माध्यम से चिकित्सा योजना के अंतर्गत किए गए बीमे से संबंधित नियम इस आलेख के अंत में परिशिष्ट-I में दिए गए हैं.
  12. अनिवासी भारतीयों की भारत यात्रा के दौरान उन्हें बीमा सुरक्षा देने से संबंधित नियम भारतीयों पर लागू होने वाले नियमों के समान ही होंगे. स्थानीय एजेंट/ विकास अधिकारी / एलआईसी के शाखा कार्यालय की मदद ली जा सकती है. हमारे कार्यालयों का पता आप लोकेटर विकल्प से प्राप्त किया जा सकता है.
  13. बीमा सुरक्षा प्राप्त करने के लिए आवश्यक मुख्य दस्तावे ज़ ये हैं
    1. चयनित पॉलिसी के प्रकार के अनुसार निर्धारित प्रस्ताव फ़ॉर्म.
    2. अनिवासी भारतीय प्रश्नावली. (परिशिष्ट-II)
    3. मेडिकल रिपोर्ट (यदि प्रस्ताव नॉन-मेडिकल योजना के अंतर्गत आता है तो लागू नहीं होगा)
    4. विशेष प्रश्नावली (यदि प्रस्ताव 'डाक आदेश व्‌यवसाय' के अंतर्गत आता है और यदि एजेंट प्रस्तावक के देश में नहीं गया है- (परिशिष्ट-III)
    5. विशेष मेडिकल रिपोर्ट, यदि माँगी गई है.
    6. पासपोर्ट की प्रमाणित प्रतिलिपि.
    7. आयु और आय का प्रमाण.
    8. बीमा की प्रस्तावित योजना के अंतर्गत प्रीमियम की किश्त के बराबर प्रारंभिक जमा राशि.
  14. विवरण जैसे अतिरिक्त निवास और अन्य प्रतिबंधात्मक स्थितियों के लिए (परिशिष्ट-V) का संदर्भ लिया जा सकता है.
    1. प्रस्ताव केवल चिकित्सा योजना के अंतर्गत होगा.
    2. उनके भारत में होने पर ही पॉलिसी भारतीय मुद्रा में जारी की जाएगी.
    3. मनोनीत एलआईसी एजेंट द्वारा रिपोर्ट करना अनिवार्य है.
    4. दावे का भुगतान भारत में और केवल भारतीय मुद्रा में किया जाएगा.
    5. अधिकतम बीमा राशि ५० लाख होगी और अधिक जोखिम योजनाएँ और ज्वाइंट लाइ फ़ योजनाएँ अस्वीकृत हैं.
    6. विवरण जैसे अतिरिक्त निवास और अन्य प्रतिबंधात्मक स्थितियों के लिए कृपया परिशिष्ट-त देखें.

    अन्य बिंदुः

    1. मौजूदा पॉलिसी आपके भारत में रहने पर और भारत से बाहर जाने के बाद भी भारतीय मुद्रा में ही जारी रहेगी. कृपया अपनी सेवार्थ एलआईसी की शाखा को अपनी नई स्थिति जैसे अनिवासी भारतीय और आपके नए पते के बारे में सूचित करें. कृपया उन्हें समय पर अनिवासी प्रश्नावली पूर्ण कर व हस्ताक्षर कर जमा करें. (परिशिष्टम II देखें). आप विभिन्न अनुमोदित एलआईसी माध्यमों से प्रीमियम का भुगतान जारी रख सकते हैं.
    2. एलआईसी हाउसिंग फायनेंस लि. के गृह निर्माण ऋण संबंधी योजनाओं और एलआईसी म्यूचुअल फंड में निवेश के अवसरों के बारे में जानकारी के लिए कृपया हमारी वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ में नीचे दिखाई देने वाले 'सहायक' पर क्लिक करें.
अनुबंध:
अनुबंध - I
अनुबंध - II
अनुबंध - III
अनुबंध - IV
अनुबंध - V
प्रीमियम संग्रह के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न नेट बैंकिंग के माध्यम से प्राप्त.

हम अधिकतम ध्यान रखा है कि सभी महत्वपूर्ण नियम या गाइड लाइन प्रदान की जाती हैं
यहाँ के साथ संशोधन तिथि करने के लिए, यदि कोई हो. हालांकि, वहाँ आवधिक और
नियमों / निर्देशों कई कारकों पर निर्भर करता है की निरंतर समीक्षा. जैसे हम,
आप अभी भी अधिक है और नवीनतम जानकारी के लिए अनुरोध करने के लिए निकटतम एलआईसी कार्यालय से संपर्क करें.

आप अपने विशिष्ट प्रश्नों co_io@licindia.com में सेवा से संबंधित प्रश्न के लिए भेज सकते हैं
नई / मौजूदा नीतियों के सम्मान कृपया co_crm@licindia.com के लिए भेजा जा सकता है. हम करेंगे

हमारी पूरी कोशिश करने के लिए सुनिश्चित करें कि आप हमारे उत्पादों और सेवा के साथ कृपा होगी.

जीवन बीमा के लिए कोई विकल्प नहीं है. जीवन बीमा लोभ का एक विषय है. 

Top