Javascript is not currently enabled in your browser.
You must enable Javascript to run this web page correctly.

  • नोटिस - भर्ती से संबन्धित झूठी खबरे     प्रिय पॉलिसीधारक, कृपया आपका बैंक खाता विवरण (NEFT) एलआईसी को तुरंत प्रस्तुत करें - फॉर्म डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें     उत्पादों के संयोजन के बारे में जनता को नोटिस     " 'ASKLIC' के लिए एसएमएस के माध्यम से अपनी नीति विवरण पता (ASKLIC प्रीमियम / ऋण / बोनस / रिवाइवल / नामांकन) और 9222492224 पर भेजे "     'आम आदमी बीमा योजना' - विवरण के लिए क्लिक करें     नकली कॉल से सावधान रहें - क्या करें और क्या न करें     " धोखाधड़ी भर्ती विज्ञापन: खबरदार ...! "     सभी एलआईसी पॉलिसीधारक / ग्राहको के लिए महत्वपूर्ण सूचना     पॉलिसीधारक, कृपया आपके बैंक खाता विवरण (एनईएफटी) प्रस्तुत करे - एनईएफटी फॉर्म डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें     
  • मुख पृष्ठ » उत्पाद » वापस ली गयी योजनाएं » सीडीए इंडोवमेंट वेस्टिंग 21 पर

    विशेषताएँ

    विशेषताएँ

    उत्पाद परिचय:

    ययह बंदोबस्‍ती सावधि बीमा योजना है, जिसे इस तरह बनाया गया है कि माता- पिता या कोई वैध अभिवावक या बच्चे का कोई करीबी रिश्तेदार ( जिसे प्रस्तावक कहा जाता है ), बच्‍चे को (जिसे बीमित व्‍यक्‍ति कहा जाता है ) जीवन बीमा सुरक्षा कवच दिला सकता है. इस योजना के दो चरण होते हैं. पहले चरण में पॉलिसी लागू होने के दिन से विलंबित तिथि के बीच की अवधि आती है ( जिसे विलंबित काल ) कहा जाता है. दूसरे चरण में विलंबित तिथि से भुगतान तिथि के बीच की अवधि आती है. बच्चे के जीवन पर बीमा सुरक्षा कवच विलंबित तिथि से भुगतान तिथि तक जारी रहता है.

    योजना संख्या 41 के मामले में विलंबन तिथि पॉलिसी की उस वर्षगांठ की तिथि होती है, जिस दिन या उसके बाद के जिस दिन बच्चा 21 साल का हो जाता है. योजना संख्या 50 के मामले में विलंबित तिथि पॉलिसी की वह वर्षगांठ होती है, जिस दिन या उसके बाद के जिस दिन बच्चा 18 साल का हो जाता है.

    प्रीमियम:

    प्रीमियमें वार्षिक , अर्द्धवार्षिक , त्रैमासिक या मासिक किश्‍तों में देय हैं और बीमित बच्चे की मृत्यु पर उनका भुगतान बंद हो जायेगा. पॉलिसी के प्रस्तावक की मृत्यु पर प्रीमियमें माफ हो जाती हैं बशर्ते कि यह लाभ उपलब्ध हो.

    बोनस:

    यह लाभ सहित योजना है और विलंबन तिथि के बाद से निगम के बीमा व्यवसाय के लाभ में भागीदारी करती है. इसे बोनसों के रूप में निगम के लाभ में हिस्सा मिलता है. प्रति हजार रुपये बीमित रकम पर हर वित्त वर्ष के अंत में साधारण प्रत्‍यावर्ती बोनसों की घोषणा की जाती है. घोषणा के बाद ये बोनस पॉलिसी का अंग बन जाते हैं.