Javascript is not currently enabled in your browser.
You must enable Javascript to run this web page correctly.

  • नोटिस - भर्ती से संबन्धित झूठी खबरे     प्रिय पॉलिसीधारक, कृपया आपका बैंक खाता विवरण (NEFT) एलआईसी को तुरंत प्रस्तुत करें - फॉर्म डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें     उत्पादों के संयोजन के बारे में जनता को नोटिस     " 'ASKLIC' के लिए एसएमएस के माध्यम से अपनी नीति विवरण पता (ASKLIC प्रीमियम / ऋण / बोनस / रिवाइवल / नामांकन) और 9222492224 पर भेजे "     'आम आदमी बीमा योजना' - विवरण के लिए क्लिक करें     नकली कॉल से सावधान रहें - क्या करें और क्या न करें     " धोखाधड़ी भर्ती विज्ञापन: खबरदार ...! "     सभी एलआईसी पॉलिसीधारक / ग्राहको के लिए महत्वपूर्ण सूचना     पॉलिसीधारक, कृपया आपके बैंक खाता विवरण (एनईएफटी) प्रस्तुत करे - एनईएफटी फॉर्म डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें     
  • मुख पृष्ठ » उत्पाद » वापस ली गयी योजनाएं » पेंशन योजनाए

    विशेषताएँ

    “इस पॉलिसी के निवेश पोर्टफ़ोलियो में निवेश जोख़िम पॉलिसीधारक द्वारा वहन किए जाते हैं”

    आपके पास अपने प्रीमियमों को उपलब्ध दो प्रकार के निवेश फंड में से किसी एक में निवेश करने का विकल्प उपलब्ध है. भुगतान किए गए प्रीमियम से आवंटन प्रभार काटे जाने के पश्चात चुने गए फंड प्रकार की यूनिट क्रय की जाएँगी. यूनिट फंड पर विभिन्न प्रभार लगाए जाएँगे और यूनिट्स का मूल्य निवल परिसंपत्ति मूल्य(एनएवी) के आधार पर बढ़ या घट सकता है.

    1. प्रीमियमों का भुगतान:आप पॉलिसी अवधि पूरी होने तक प्रीमियम का नियमित भुगतान वार्षिक, अर्धवार्षिक, त्रैमासिक या मासिक(केवल ईसीएस विधि के द्वारा) अंतरालों पर कर सकते हैं. वैकल्पिक रूप से, एकल प्रीमियम का भुगतान किया जा सकता है. 

    वार्षिक या अर्ध-वार्षिक या त्रैमासिक प्रीमियम के भुगतान के लिए 30 दिनों की और मासिक (केवल ईसीएस विधि के द्वारा) प्रीमियम के लिए 15 दिनों की रियायती अवधि दी जाएगी.

    2 . पात्रता की शर्तें और अन्य प्रतिबंध:
    क) प्रवेश पर न्यूनतम आयु      -      18 वर्ष (पिछला जन्मदिन)
    ख) प्रवेश पर अधिकतम आयु      -     75 वर्ष (निकटतम जन्मदिन)
    ग) पेंशन के समय न्यूनतम आयु      -     40 वर्ष (पूर्ण)
    घ) पेंशन के समय अधिकतम आयु     -     85 वर्ष (निकटतम जन्मदिन)
    च) न्यूनतम स्थगन अवधि            -     10 वर्ष
    छ) बीमित राशि           -           शून्य
    ज) न्यूनतम प्रीमियम           -           नियमित प्रीमियम (मासिक (ईसीएस) विधि को छोड़कर) : रु. [15,000] वार्षिक  नियमित प्रीमियम (मासिक (ईसीएस) विधि के लिए) : रु. [1,500] प्रतिमाह एकल प्रीमियम: रु. [30,000]
    झ) अधिकतम प्रीमियम           -           नियमित प्रीमियम : रु. [1,00,000] प्रतिवर्ष एकल प्रीमियम: कोई सीमा नहीं


    वार्षिकीकृत प्रीमियमों का भुगतान ईसीएस मासिक को छोड़कर रु.1000 के गुणक में किया जाएगा. मासिक (ईसीएस) के लिए प्रीमियम रु. 250/- के गुणकों में होगी.

    3. योजना के अंतर्गत प्रभार:
    अ) प्रीमियम आवंटन प्रभार: यह प्रीमियम का वह प्रतिशत है, जिसे प्राप्त प्रीमियम से प्रभार हेतु विनियोजित कर लिया गया हो. शेष प्रीमियम का वह भाग बनाता है, जिसका उपयोग पॉलिसी के लिए यूनिट्स क्रय करने (निवेश) में किया जाता है. आवंटन प्रभार इस प्रकार हैं:
    एकल प्रीमियम पॉलिसियों के लिए: 3.3%

    नियमित प्रीमियम पॉलिसियों के लिए:

    प्रीमियम आवंटन प्रभार
    पहला वर्ष 6.75%
    2 रे वर्ष से 5 वें वर्ष तक 4.50%
    उसकेबाद 2.50%

    टॉप अप के लिए आवंटन प्रभार: 1.25%

    ब) अन्य प्रभार: पॉलिसी अवधि के दौरान निम्नलिखित प्रभार काटे जाएँगे:
    i) पॉलिसी प्रबंधन प्रभार: पॉलिसी के प्रथम वर्ष के दौरान रु. 30/- प्रतिमाह और उसके बाद रु. 30/- प्रतिमाह 3% प्रतिवर्ष की दर से बढ़ते हुए पॉलिसी की पूरी अवधि के दौरान लगाया जाएगा.

    ii) फंड प्रबंधन प्रभार- यह यूनिटों के मूल्य के प्रतिशत के रूप में निम्नलिखित दरों से लगाया जाने वाला प्रभार है:
    “ऋण” निधि के लिए यूनिट निधि का 0.70% प्रतिवर्ष

    “मिश्रित” निधि के लिए यूनिट निधि का 0.80% प्रतिवर्ष

    फंड प्रबंधन प्रभार एनएवी की गणना के दौरान समायोजित किया जाएगा.

    iii) स्विचिंग प्रभार- यह प्रभार धनराशि को एक फंड से दूसरे फंड में अंतरित करने के लिए लगाया जाता है. किसी एक पॉलिसी वर्ष के भीतर 2 स्विच निशुल्क करने की अनुमति होगी. उसी वर्ष में उसके बाद के स्विचों पर 100 रु. प्रति स्विच का प्रभार लगाया जाएगा.
    iv) बिड/ऑफ़र में अंतर – शून्य

    v) अवरोधन प्रभार – नियमित प्रीमियम वाली पॉलिसियों में अवरोधन प्रभार इस प्रकार है:
     

    जब पॉलिसी का अवरोधन पॉलिसी वर्ष के दौरान होता है उन पॉलिसियों के लिए अवरोधन प्रभार जिनमें वार्षिकीकृत प्रीमियम रु. 25,000/- तक हो उन पॉलिसियों के लिए अवरोधन प्रभार जिनमें वार्षिकीकृत प्रीमियम रु. 25,000/- से अधिक हो
    1 10% से कम*(AP या FV) अधिकतम रु.. 2500/- तक 6% से कम * *(AP या FV) अधिकतम रू. 6000/- तक
    2 7% से कम*(AP या FV) अधिकतम रू. 1750/- तक 4% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 5000/- तक
    3 5% से कम*(AP या FV) अधिकतम रु. 1250/- तक 3% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 4000/- तक
    4 3% से कम*(AP या FV) अधिकतम रू. 750/- तक 2% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 2000/- तक
    5 और अगला शून्य शून्य

    AP- वार्षिकीकृत प्रीमियम

    FV - अवरोधन की तिथि पर पॉलिसीधारक का फंड मूल्य, भुगतान किए गए टॉप-अप प्रीमियम,

    यदि कोई हों, से संबंधित फंड मूल्य को घटाकर

    एकल प्रीमियम के अंतर्गत कोई अवरोधन प्रभार नहीं लगाया जाएगा

    vi) सेवा कर प्रभार – सेवा कर प्रभार, यदि कोई हो, तो वह समय-समय पर लागू सेवा कर की दरों और सेवा कर विनियमों के अनुसार होगा

    स) प्रभारों में संशोधन का अधिकार: केवल प्रीमियम आवंटन प्रभार को छोड़कर निगम ने उपर्युक्त सभी या किसी भी प्रभार को संशोधित करने का अधिकार सुरक्षित रखा है और यह आईआरडीए के पूर्व अनुमोदन से किया जाता है.

    - पॉलिसी प्रबंधन प्रभार:
    पॉलिसी के प्रथम वर्ष के दौरान रु. 60/- प्रतिमाह और उसके बाद रु. 60/- प्रतिमाह 3% प्रतिवर्ष की दर से बढ़ते हुए पॉलिसी की संपूर्ण अवधि के दौरान लगाया जाएगा

    - फंड प्रबंधन प्रभार: प्रत्येक फंड के लिए अधिकतम इस प्रकार होगा:

    i. ऋण फंड: यूनिट फंड का 1.20% प्रतिवर्ष

    ii. मिश्रित फंड: यूनिट फंड का 1.30% प्रतिवर्ष

    - स्विचिंग प्रभार प्रति स्विच रु. 200/- से अधिक नहीं होगा.

    - विविध प्रभार परिवर्तन के हर अनुरोध के लिए रु. 100/- से अधिक नहीं होगा

    यदि पॉलिसीधारक प्रभारों में किए गए संशोधन से सहमत न हो, तो पॉलिसीधारक के पास फंड मूल्य को वापस लेने का विकल्प होगा, जिसे वार्षिकी प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाएगा.

    4. प्रीमियम अवरुद्ध होना:
    यदि आप पॉलिसी के प्रीमियमों का भुगतान रियायती दिनों में करने में असमर्थ रहते हैं, तो आपको रियायती दिनों की अवधि की समाप्ति के पंद्रह दिनों के भीतर एक सूचना भेजी जाएगी, जिससे कि आप ऐसी सूचना प्राप्ति के तीस दिनों के भीतर निम्नलिखित विकल्पों में से किसी एक का प्रयोग कर सकें: 

    i) पॉलिसी का पुनर्चलन, या

    ii) पॉलिसी से पूर्ण प्रत्याहरण
    30 दिनों की सूचना अवधि के दौरान, पॉलिसी को इसके अवरुद्ध होने की तिथि तक चालू अवस्था में माना जाएगा (अर्थात उस तिथि तक जब पॉलिसीधारक की ओर से पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण की सूचना नहीं दी जाती है या सूचना अवधि की समाप्ति तक) और सामान्य रूप से प्रभार काटा जाएगा

    यदि आप 30 दिनों की निर्धारित अवधि तक किसी भी विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो आपके द्वारा पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण का विकल्प चुना गया माना जाएगा.

    सूचना अवधि के दौरान लाभ के भुगतानों में कोई परिवर्तन नहीं होगा.
    आपके द्वारा पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग किए जाने पर या सूचना अवधि के दौरान आपके द्वारा किसी भी विकल्प का प्रयोग न किए जाने पर मिलने वाली राशि इस प्रकार होगी:

    यदि पॉलिसी इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष के भीतर अवरुद्ध कर दी जाती है:
    यदि आप पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग करते हैं, या यदि आप सूचना प्राप्ति की तिथि से 30 दिनों के भीतर विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो पॉलिसी अनिवार्यतः समाप्त कर दी जाएगी. पॉलिसी के अवरोधन की तिथि पर पॉलिसीधारक के फंड मूल्य को नीचे दर्शाए अनुसार अवरोधन प्रभार घटाने के पश्चात मौद्रिक मूल्य में परिवर्तित कर लिया जाएगा और अवरुद्ध पॉलिसी की राशि का उपयोग अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने हेतु किया जाएगा, और यह पॉलिसी के शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात देय होगा.

    यदि पॉलिसी इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष के पश्चात अवरुद्ध कर दी जाती है: 
    यदि आप पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग करते हैं, या यदि आप सूचना प्राप्त होने के 30 दिनों की अवधि के भीतर विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो पॉलिसी अनिवार्य रूप से समाप्त कर दी जाएगी और पॉलिसीधारक के फंड मूल्य का उपयोग अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने के लिए किया जाएगा.

    5. अवरुद्ध पॉलिसी के मौद्रिक मूल्य और राशि की गणना की विधि:

    मौद्रिक मूल्य में परिवर्तन इस प्रकार किया जाएगा:अभ्यर्पण के लिए दिए गए आवेदन की तिथि की या पॉलिसी के अवरुद्ध होने (पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण की स्थिति में) की तिथि की एनएवी, जो भी लागू हो, का उस तिथि पर पॉलिसीधारक के फंड मूल्य में यूनिट्स की संख्या से गुणा करने पर मौद्रिक मूल्य प्राप्त होगा

    अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि की गणना इस प्रकार की जाएगी:उपरोक्तानुसार परिगणित किए गए मौद्रिक मूल्य को अवरुद्ध पॉलिसी फंड में स्थानांतरित कर दिया जाएगा. इस फंड पर पॉलिसी के अवरुद्ध होने की तिथि से आरंभ कर पॉलिसी की आरंभ दिनांक से 5 वर्ष पूर्ण होने की तिथि तक न्यूनतम 3.5% प्रतिवर्ष की दर से ब्याज प्राप्त होगा. बीमित व्यक्ति की मृत्यु होने की स्थिति में, पॉलिसी के अवरुद्ध होने की तिथि से देयता उत्पन्न होने की तिथि तक का ब्याज जमा किया जाएगा. अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि मौद्रिक मूल्य और अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर जमा हुए ब्याज का योग होगी.

    6. अन्य विशेषताएँ:

    i) गारंटीकृत परिपक्वता राशि: यदि परिपक्वता तक के सभी देय प्रीमियमों का भुगतान कर दिया गया हो, तो प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में सकल प्रीमियम पर, जिसमें यदि कोई टॉप-अप प्रीमियम हो, तो वह भी सम्मिलित है, एक गारंटीड ब्याज जमा किया जाएगा. गारंटीकृत ब्याज दर पिछले वर्ष के जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के अंतिम कार्यदिवस पर कार्यशील रिवर्स रेपो रेट के औसत के 50 बिंदुओं पर आधारित होगी. हालाँकि, गारंटीकृत ब्याज दर अधिकतम 6% और न्यूनतम 3% तक सीमित होगी. यह गारंटीकृत ब्याज दर किसी अवरुद्ध पॉलिसी पर लागू नहीं होगी. 

    4.5% प्रतिवर्ष की न्यूनतम ब्याज दर 31 मार्च 2011 तक प्राप्त सभी प्रीमियमों पर, जमा किए गए किसी भी टॉप-अप प्रीमियम को शामिल कर लागू होगी.

    ii) अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर ब्याज दर की गारंटी: सभी अवरुद्ध पॉलिसियों की फंड मूल्य से बने अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर 3.5% प्रतिवर्ष की गारंटीड न्यूनतम दर से ब्याज जमा किया जाएगा.

    iii) टॉप-अप(अतिरिक्त प्रीमियम): आप पॉलिसी की अवधि के दौरान किसी भी समय बिना किसी सीमा के रु. 1000 के गुणक में अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं. संविदा के अंतिम 5 वर्षों के दौरान टॉप-अप की अनुमति नहीं होगी. प्रीमियम भुगतान की वार्षिक, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक या मासिक (ईसीएस) विधि की स्थिति में ऐसे टॉप-अप का भुगतान केवल तभी किया जा सकता है, जबकि पॉलिसी के अंतर्गत सभी प्रीमियमों का भुगतान कर दिया गया हो

    iv) स्विचिंग: आप स्विचिंग प्रभार, यदि कोई हो, तो उसके अधीन पॉलिसी की अवधि के दौरान दो फंड प्रकारों के बीच स्थानांतरण कर सकते हैं.

    v) आंशिक प्रत्याहरण: इस योजना के अंतर्गत यूनिट्स के आंशिक प्रत्याहरण की अनुमति नहीं है.

    vi) पुनर्चलन: यदि रियायती दिनों के भीतर देय प्रीमियम का भुगतान नहीं किया जाता है, तो आपको एक सूचना रियायती अवधि की समाप्ति के पंद्रह दिन की अवधि के भीतर भेजी जाएगी जिसमें ऐसी सूचना की प्राप्ति के तीस दिनों के भीतर पुनर्चलन के विकल्प का प्रयोग करने के लिए कहा जाएगा. यदि आप पॉलिसी के पुनर्चलन के विकल्प का प्रयोग करते हैं, तो प्रीमियम की पूर्व सभी बकाया राशि ब्याज के बिना जमा करना आवश्यगक होगा.

    निगम ने स्वयं अपनी शर्तों पर किसी पॉलिसी के पुनर्चलन को स्वीकार करने या पुनर्चलन से इनकार करने का अधिकार सुरक्षित रखा है

    ऊपर कुछ भी लिखा होने के बावजूद, यदि पॉलिसीधारक का फंड मूल्य सूचना अवधि के दौरान प्रभारों की वसूली के लिए पर्याप्त न हो, तो पॉलिसी समाप्त हो जाएगी और उसके बाद पुनर्चलन की अनुमति नहीं दी जाएगी

    vii) वार्षिकी में परिवर्तन: अभ्यर्पण की स्थिति में या प्रीमियम के अवरुद्ध होने पर अथवा पेंशन निहित होने पर देय हितलाभ की राशि का उपयोग निम्नलिखित शर्तों के अधीन अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने में किया जाएगा:

    1. निम्नलिखित में से जो भी लागू हो, उसके अधिकतम एक तिहाई तक एकमुश्त प्राप्त करने का विकल्प आपके पास होगा

    • » पेंशन निहित होने की स्थिति में पॉलिसीधारक का फंड मूल्य और गारंटीकृत परिपक्वता धनराशि में से जो अधिक हो, अथवा
    • » अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि, यदि पॉलिसी को इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के भीतर अवरुद्ध या अभ्यर्पित कर दिया गया हो, अथवा
    • » पॉलिसीधारक का फंड मूल्य, यदि पॉलिसी को इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात अवरुद्ध या अभ्यर्पित कर दिया गया हो.

    एकमुश्त धनराशि प्राप्त करने की अनुमति तभी दी जाएगी जबकि शेष धनराशि बीमा अधिनियम, 1938 की धारा 4 के प्रावधानों के अनुसार, वार्षिकी के भुगतान की तिथि को लागू वार्षिकी की न्यूनतम राशि क्रय करने के लिए पर्याप्त हो
    शेष धनराशि का उपयोग अनिवार्य रूप से उस समय कार्यशील तत्क्षण वार्षिकी दरों के आधार पर संगत वार्षिकी विकल्प के अंतर्गत वार्षिकी प्रदान करने में किया जाएगा.

    2. देय वार्षिकी की न्यूनतम राशि, वार्षिकी के भुगतान की तिथि को लागू बीमा अधिनियम, 1938 की धारा 4 के प्रावधानों के अधीन होगी. यदि उपर्युक्त पैरा 10.Vii) में (a) से (c) तक वर्णित लागू होने वाली धनराशि वार्षिकी की न्यूनतम धनराशि को क्रय करने के लिए अपर्याप्त हो, तो आपको उल्लिखित धनराशि का एकमुश्त भुगतान किया जाएगा.

    3. आपके पास “आईआरडीए से पंजीकृत” किसी अन्य जीवन बीमा कंपनी से तत्काल वार्षिकी क्रय करने का विकल्प भी विनियामक प्रावधानों के अधीन उपलब्ध होगा. ऐसी स्थितियों में LIC आपके फंड मूल्य को सीधे चुने हुए बीमाकर्ता को स्थानांतरित कर देगी. यदि आप किसी अन्य जीवन बीमा कंपनी से तत्काल वार्षिकी क्रय करने का विकल्प चुनते हैं, तो आपको अपनी ऐसी इच्छा की सूचना निगम को पेंशन निहित होने की तिथि से छः माह पूर्व देना आवश्यक होगा.

    7. पुनःस्थापन: एक बार अभ्यर्पित की गई पॉलिसी को पुनः स्थापित नहीं किया जा सकता है.

    8. पॉलिसीधारक द्वारा उठाए जाने वाले जोख़िम:

    • » LIC का पेंशन प्लस एक यूनिट संबंधित जीवन बीमा उत्पाद है जो पारंपरिक बीमा उत्पादों से भिन्न है और जोख़िम कारकों के अधीन है.
    • » यूनिट संबंधित जीवन बीमा पॉलिसियों में दिया गया प्रीमियम पूँजी बाज़ार के साथ जुड़े हुए निवेश जोख़िमों के अधीन है और यूनिटों का एनएवी फंड की निष्पादकता तथा पूँजी बाज़ार को प्रभावित करने वाले कारकों के आधार पर बढ़ या घट सकता है और बीमित व्यक्ति अपने निर्णय के लिए उत्तरदायी होता/होती है.
    • » भारतीय जीवन बीमा निगम केवल बीमा कंपनी का नाम है और LIC का पेंशन प्लस केवल यूनिट संबंधित जीवन बीमा संविदा का नाम है और यह किसी भी प्रकार से संविदा की गुणता, भविष्य की संभावनाओं या प्रतिफल का द्योतक नहीं है.
    • » कृपया सहयोजित जोख़िमों तथा लागू होने वाले प्रभारों के बारे में जानकारी अपने बीमा एजेंट या मध्यस्थ या बीमाकर्त्ता के पॉलिसी प्रलेख से ले लें.
    • » इस संविदा के अंतर्गत प्रस्तुत विभिन्न फंड्स केवल फंड्स का नाम हैं और किसी भी प्रकार से इन योजनाओं की गुणता, भविष्य की संभावनाओं और प्रतिफलों की द्योतक नहीं हैं.
    • » इस पॉलिसी के अंतर्गत सभी हितलाभ कर क़ानूनों और अन्य वित्तीय विधानों के भी अधीन हैं जो समय-समय पर लागू हों.


    9. कूलिंग ऑफ़ अवधि: यदि आप पॉलिसी के “निबंधनों तथा शर्तों” से संतुष्ट न हों, तो आप 15 दिन के भीतर पॉलिसी हमें लौटा सकते हैं. पॉलिसी के कूलिंग ऑफ़ अवधि में लौटाए जाने की स्थिति में देय राशि का निर्धारण इस प्रकार किया जाएगा:

    • » पॉलिसीधारक के फंड में यूनिट्स का मूल्य
    • » धन आवंटित न किया गया प्रीमियम,
    • » धन काटा गया पॉलिसी प्रबंधन प्रभार
    • » ऋण पॉलिसी की कुल अवधि के दौरान देय कुल प्रीमियमों पर प्रभार @ रु.0.20 प्रति हज़ार

    10. ऋण: इस तालिका के अंतर्गत कोई ऋण उपलब्ध नहीं है.
    11. समनुदेशन: इस तालिका के अंतर्गत समनुदेशन की अनुमति नहीं होगी.

    “इस पॉलिसी के निवेश पोर्टफ़ोलियो में निवेश जोख़िम पॉलिसीधारक द्वारा वहन किए जाते हैं”

    आपके पास अपने प्रीमियमों को उपलब्ध दो प्रकार के निवेश फंड में से किसी एक में निवेश करने का विकल्प उपलब्ध है. भुगतान किए गए प्रीमियम से आवंटन प्रभार काटे जाने के पश्चात चुने गए फंड प्रकार की यूनिट क्रय की जाएँगी. यूनिट फंड पर विभिन्न प्रभार लगाए जाएँगे और यूनिट्स का मूल्य निवल परिसंपत्ति मूल्य(एनएवी) के आधार पर बढ़ या घट सकता है.



    1. प्रीमियमों का भुगतान:आप पॉलिसी अवधि पूरी होने तक प्रीमियम का नियमित भुगतान वार्षिक, अर्धवार्षिक, त्रैमासिक या मासिक(केवल ईसीएस विधि के द्वारा) अंतरालों पर कर सकते हैं. वैकल्पिक रूप से, एकल प्रीमियम का भुगतान किया जा सकता है. 

    वार्षिक या अर्ध-वार्षिक या त्रैमा  सिक प्रीमियम के भुगतान के लिए 30 दिनों की और मासिक (केवल ईसीएस विधि के द्वारा) प्रीमियम के लिए 15 दिनों की रियायती अवधि दी जाएगी.

    2 . पात्रता की शर्तें और अन्य प्रतिबंध:
    क) प्रवेश पर न्यूनतम आयु      -      18 वर्ष (पिछला जन्मदिन)
    ख) प्रवेश पर अधिकतम आयु      -     75 वर्ष (निकटतम जन्मदिन)
    ग) पेंशन के समय न्यूनतम आयु      -     40 वर्ष (पूर्ण)
    घ) पेंशन के समय अधिकतम आयु     -     85 वर्ष (निकटतम जन्मदिन)
    च) न्यूनतम स्थगन अवधि            -     10 वर्ष
    छ) बीमित राशि           -           शून्य
    ज) न्यूनतम प्रीमियम           -           नियमित प्रीमियम (मासिक (ईसीएस) विधि को छोड़कर) : रु. [15,000] वार्षिक  नियमित प्रीमियम (मासिक (ईसीएस) विधि के लिए) : रु. [1,500] प्रतिमाह एकल प्रीमियम: रु. [30,000]
    झ) अधिकतम प्रीमियम           -           नियमित प्रीमियम : रु. [1,00,000] प्रतिवर्ष एकल प्रीमियम: कोई सीमा नहीं


    वार्षिकीकृत प्रीमियमों का भुगतान ईसीएस मासिक को छोड़कर रु.1000 के गुणक में किया जाएगा. मासिक (ईसीएस) के लिए प्रीमियम रु. 250/- के गुणकों में होगी.

    3. योजना के अंतर्गत प्रभार:
    अ) प्रीमियम आवंटन प्रभार: यह प्रीमियम का वह प्रतिशत है, जिसे प्राप्त प्रीमियम से प्रभार हेतु विनियोजित कर लिया गया हो. शेष प्रीमियम का वह भाग बनाता है, जिसका उपयोग पॉलिसी के लिए यूनिट्स क्रय करने (निवेश) में किया जाता है. आवंटन प्रभार इस प्रकार हैं:
    एकल प्रीमियम पॉलिसियों के लिए: 3.3%

    नियमित प्रीमियम पॉलिसियों के लिए:

    प्रीमियम आवंटन प्रभार
    पहला वर्ष 6.75%
    2 रे वर्ष से 5 वें वर्ष तक 4.50%
    उसकेबाद 2.50%

    टॉप अप के लिए आवंटन प्रभार: 1.25%

    ब) अन्य प्रभार: पॉलिसी अवधि के दौरान निम्नलिखित प्रभार काटे जाएँगे:
    i) पॉलिसी प्रबंधन प्रभार: पॉलिसी के प्रथम वर्ष के दौरान रु. 30/- प्रतिमाह और उसके बाद रु. 30/- प्रतिमाह 3% प्रतिवर्ष की दर से बढ़ते हुए पॉलिसी की पूरी अवधि के दौरान लगाया जाएगा.

    ii) फंड प्रबंधन प्रभार- यह यूनिटों के मूल्य के प्रतिशत के रूप में निम्नलिखित दरों से लगाया जाने वाला प्रभार है:
    “ऋण” निधि के लिए यूनिट निधि का 0.70% प्रतिवर्ष

    “मिश्रित” निधि के लिए यूनिट निधि का 0.80% प्रतिवर्ष

    फंड प्रबंधन प्रभार एनएवी की गणना के दौरान समायोजित किया जाएगा.

    iii) स्विचिंग प्रभार- यह प्रभार धनराशि को एक फंड से दूसरे फंड में अंतरित करने के लिए लगाया जाता है. किसी एक पॉलिसी वर्ष के भीतर 2 स्विच निशुल्क करने की अनुमति होगी. उसी वर्ष में उसके बाद के स्विचों पर 100 रु. प्रति स्विच का प्रभार लगाया जाएगा.
    iv) बिड/ऑफ़र में अंतर – शून्य

    v) अवरोधन प्रभार – नियमित प्रीमियम वाली पॉलिसियों में अवरोधन प्रभार इस प्रकार है:
     

    जब पॉलिसी का अवरोधन पॉलिसी वर्ष के दौरान होता है उन पॉलिसियों के लिए अवरोधन प्रभार जिनमें वार्षिकीकृत प्रीमियम रु. 25,000/- तक हो उन पॉलिसियों के लिए अवरोधन प्रभार जिनमें वार्षिकीकृत प्रीमियम रु. 25,000/- से अधिक हो
    1 10% से कम*(AP या FV) अधिकतम रु.. 2500/- तक 6% से कम * *(AP या FV) अधिकतम रू. 6000/- तक
    2 7% से कम*(AP या FV) अधिकतम रू. 1750/- तक 4% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 5000/- तक
    3 5% से कम*(AP या FV) अधिकतम रु. 1250/- तक 3% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 4000/- तक
    4 3% से कम*(AP या FV) अधिकतम रू. 750/- तक 2% से कम *(AP या FV) अधिकतम रु. 2000/- तक
    5 और अगला शून्य शून्य

    AP- वार्षिकीकृत प्रीमियम

    FV - अवरोधन की तिथि पर पॉलिसीधारक का फंड मूल्य, भुगतान किए गए टॉप-अप प्रीमियम, यदि कोई हों, से संबंधित फंड मूल्य को घटाकर

    एकल प्रीमियम के अंतर्गत कोई अवरोधन प्रभार नहीं लगाया जाएगा

    vi) सेवा कर प्रभार – सेवा कर प्रभार, यदि कोई हो, तो वह समय-समय पर लागू सेवा कर की दरों और सेवा कर विनियमों के अनुसार होगा
    स) प्रभारों में संशोधन का अधिकार: केवल प्रीमियम आवंटन प्रभार को छोड़कर निगम ने उपर्युक्त सभी या किसी भी प्रभार को संशोधित करने का अधिकार सुरक्षित रखा है और यह आईआरडीए के पूर्व अनुमोदन से किया जाता है.

    - पॉलिसी प्रबंधन प्रभार

    पॉलिसी के प्रथम वर्ष के दौरान रु. 60/- प्रतिमाह और उसके बाद रु. 60/- प्रतिमाह 3% प्रतिवर्ष की दर से बढ़ते हुए पॉलिसी की संपूर्ण अवधि के दौरान लगाया जाएगा

    - फंड प्रबंधन प्रभार: प्रत्येक फंड के लिए अधिकतम इस प्रकार होगा:

    i. ऋण फंड: यूनिट फंड का 1.20% प्रतिवर्ष

    ii. मिश्रित फंड: यूनिट फंड का 1.30% प्रतिवर्ष

    - स्विचिंग प्रभार प्रति स्विच रु. 200/- से अधिक नहीं होगा.

    - विविध प्रभार परिवर्तन के हर अनुरोध के लिए रु. 100/- से अधिक नहीं होगा

    यदि पॉलिसीधारक प्रभारों में किए गए संशोधन से सहमत न हो, तो पॉलिसीधारक के पास फंड मूल्य को वापस लेने का विकल्प होगा, जिसे वार्षिकी प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाएगा.

    4. प्रीमियम अवरुद्ध होना:
    यदि आप पॉलिसी के प्रीमियमों का भुगतान रियायती दिनों में करने में असमर्थ रहते हैं, तो आपको रियायती दिनों की अवधि की समाप्ति के पंद्रह दिनों के भीतर एक सूचना भेजी जाएगी, जिससे कि आप ऐसी सूचना प्राप्ति के तीस दिनों के भीतर निम्नलिखित विकल्पों में से किसी एक का प्रयोग कर सकें: 

    i) पॉलिसी का पुनर्चलन, या

    ii) पॉलिसी से पूर्ण प्रत्याहरण

    30 दिनों की सूचना अवधि के दौरान, पॉलिसी को इसके अवरुद्ध होने की तिथि तक चालू अवस्था में माना जाएगा (अर्थात उस तिथि तक जब पॉलिसीधारक की ओर से पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण की सूचना नहीं दी जाती है या सूचना अवधि की समाप्ति तक) और सामान्य रूप से प्रभार काटा जाएगा

    यदि आप 30 दिनों की निर्धारित अवधि तक किसी भी विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो आपके द्वारा पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण का विकल्प चुना गया माना जाएगा.

    सूचना अवधि के दौरान लाभ के भुगतानों में कोई परिवर्तन नहीं होगा.

    आपके द्वारा पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग किए जाने पर या सूचना अवधि के दौरान आपके द्वारा किसी भी विकल्प का प्रयोग न किए जाने पर मिलने वाली राशि इस प्रकार होगी:

    यदि पॉलिसी इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष के भीतर अवरुद्ध कर दी जाती है:
    यदि आप पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग करते हैं, या यदि आप सूचना प्राप्ति की तिथि से 30 दिनों के भीतर विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो पॉलिसी अनिवार्यतः समाप्त कर दी जाएगी. पॉलिसी के अवरोधन की तिथि पर पॉलिसीधारक के फंड मूल्य को नीचे दर्शाए अनुसार अवरोधन प्रभार घटाने के पश्चात मौद्रिक मूल्य में परिवर्तित कर लिया जाएगा और अवरुद्ध पॉलिसी की राशि का उपयोग अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने हेतु किया जाएगा, और यह पॉलिसी के शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात देय होगा.

    यदि पॉलिसी इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष के पश्चात अवरुद्ध कर दी जाती है: 
    यदि आप पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण के विकल्प का प्रयोग करते हैं, या यदि आप सूचना प्राप्त होने के 30 दिनों की अवधि के भीतर विकल्प का प्रयोग नहीं करते हैं, तो पॉलिसी अनिवार्य रूप से समाप्त कर दी जाएगी और पॉलिसीधारक के फंड मूल्य का उपयोग अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने के लिए किया जाएगा.

    5. अवरुद्ध पॉलिसी के मौद्रिक मूल्य और राशि की गणना की विधि:
    मौद्रिक मूल्य में परिवर्तन इस प्रकार किया जाएगा:अभ्यर्पण के लिए दिए गए आवेदन की तिथि की या पॉलिसी के अवरुद्ध होने (पॉलिसी के पूर्ण प्रत्याहरण की स्थिति में) की तिथि की एनएवी, जो भी लागू हो, का उस तिथि पर पॉलिसीधारक के फंड मूल्य में यूनिट्स की संख्या से गुणा करने पर मौद्रिक मूल्य प्राप्त होगा

    अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि की गणना इस प्रकार की जाएगी:उपरोक्तानुसार परिगणित किए गए मौद्रिक मूल्य को अवरुद्ध पॉलिसी फंड में स्थानांतरित कर दिया जाएगा. इस फंड पर पॉलिसी के अवरुद्ध होने की तिथि से आरंभ कर पॉलिसी की आरंभ दिनांक से 5 वर्ष पूर्ण होने की तिथि तक न्यूनतम 3.5% प्रतिवर्ष की दर से ब्याज प्राप्त होगा. बीमित व्यक्ति की मृत्यु होने की स्थिति में, पॉलिसी के अवरुद्ध होने की तिथि से देयता उत्पन्न होने की तिथि तक का ब्याज जमा किया जाएगा. अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि मौद्रिक मूल्य और अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर जमा हुए ब्याज का योग होगी.

    6. अन्य विशेषताएँ:
     

    i) गारंटीकृत परिपक्वता राशि: यदि परिपक्वता तक के सभी देय प्रीमियमों का भुगतान कर दिया गया हो, तो प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में सकल प्रीमियम पर, जिसमें यदि कोई टॉप-अप प्रीमियम हो, तो वह भी सम्मिलित है, एक गारंटीड ब्याज जमा किया जाएगा. गारंटीकृत ब्याज दर पिछले वर्ष के जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च के अंतिम कार्यदिवस पर कार्यशील रिवर्स रेपो रेट के औसत के 50 बिंदुओं पर आधारित होगी. हालाँकि, गारंटीकृत ब्याज दर अधिकतम 6% और न्यूनतम 3% तक सीमित होगी. यह गारंटीकृत ब्याज दर किसी अवरुद्ध पॉलिसी पर लागू नहीं होगी. 
    4.5% प्रतिवर्ष की न्यूनतम ब्याज दर 31 मार्च 2011 तक प्राप्त सभी प्रीमियमों पर, जमा किए गए किसी भी टॉप-अप प्रीमियम को शामिल कर लागू होगी.

    ii) अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर ब्याज दर की गारंटी: सभी अवरुद्ध पॉलिसियों की फंड मूल्य से बने अवरुद्ध पॉलिसी फंड पर 3.5% प्रतिवर्ष की गारंटीड न्यूनतम दर से ब्याज जमा किया जाएगा.

    iii) टॉप-अप(अतिरिक्त प्रीमियम): आप पॉलिसी की अवधि के दौरान किसी भी समय बिना किसी सीमा के रु. 1000 के गुणक में अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं. संविदा के अंतिम 5 वर्षों के दौरान टॉप-अप की अनुमति नहीं होगी. प्रीमियम भुगतान की वार्षिक, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक या मासिक (ईसीएस) विधि की स्थिति में ऐसे टॉप-अप का भुगतान केवल तभी किया जा सकता है, जबकि पॉलिसी के अंतर्गत सभी प्रीमियमों का भुगतान कर दिया गया हो

    iv) स्विचिंग: आप स्विचिंग प्रभार, यदि कोई हो, तो उसके अधीन पॉलिसी की अवधि के दौरान दो फंड प्रकारों के बीच स्थानांतरण कर सकते हैं.

    v) आंशिक प्रत्याहरण: इस योजना के अंतर्गत यूनिट्स के आंशिक प्रत्याहरण की अनुमति नहीं है.

    vi) पुनर्चलन: यदि रियायती दिनों के भीतर देय प्रीमियम का भुगतान नहीं किया जाता है, तो आपको एक सूचना रियायती अवधि की समाप्ति के पंद्रह दिन की अवधि के भीतर भेजी जाएगी जिसमें ऐसी सूचना की प्राप्ति के तीस दिनों के भीतर पुनर्चलन के विकल्प का प्रयोग करने के लिए कहा जाएगा. यदि आप पॉलिसी के पुनर्चलन के विकल्प का प्रयोग करते हैं, तो प्रीमियम की पूर्व सभी बकाया राशि ब्याज के बिना जमा करना आवश्यगक होगा.

    निगम ने स्वयं अपनी शर्तों पर किसी पॉलिसी के पुनर्चलन को स्वीकार करने या पुनर्चलन से इनकार करने का अधिकार सुरक्षित रखा है

    ऊपर कुछ भी लिखा होने के बावजूद, यदि पॉलिसीधारक का फंड मूल्य सूचना अवधि के दौरान प्रभारों की वसूली के लिए पर्याप्त न हो, तो पॉलिसी समाप्त हो जाएगी और उसके बाद पुनर्चलन की अनुमति नहीं दी जाएगी

    vii) वार्षिकी में परिवर्तन: अभ्यर्पण की स्थिति में या प्रीमियम के अवरुद्ध होने पर अथवा पेंशन निहित होने पर देय हितलाभ की राशि का उपयोग निम्नलिखित शर्तों के अधीन अनिवार्य रूप से वार्षिकी प्रदान करने में किया जाएगा:

    1. निम्नलिखित में से जो भी लागू हो, उसके अधिकतम एक तिहाई तक एकमुश्त प्राप्त करने का विकल्प आपके पास होगा

    • पेंशन निहित होने की स्थिति में पॉलिसीधारक का फंड मूल्य और गारंटीकृत परिपक्वता धनराशि में से जो अधिक हो, अथवा
    • अवरुद्ध पॉलिसी की धनराशि, यदि पॉलिसी को इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के भीतर अवरुद्ध या अभ्यर्पित कर दिया गया हो, अथवा
    • पॉलिसीधारक का फंड मूल्य, यदि पॉलिसी को इसके शुरू होने की तिथि से 5 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात अवरुद्ध या अभ्यर्पित कर दिया गया हो.

    एकमुश्त धनराशि प्राप्त करने की अनुमति तभी दी जाएगी जबकि शेष धनराशि बीमा अधिनियम, 1938 की धारा 4 के प्रावधानों के अनुसार, वार्षिकी के भुगतान की तिथि को लागू वार्षिकी की न्यूनतम राशि क्रय करने के लिए पर्याप्त हो
    शेष धनराशि का उपयोग अनिवार्य रूप से उस समय कार्यशील तत्क्षण वार्षिकी दरों के आधार पर संगत वार्षिकी विकल्प के अंतर्गत वार्षिकी प्रदान करने में किया जाएगा.

    2. देय वार्षिकी की न्यूनतम राशि, वार्षिकी के भुगतान की तिथि को लागू बीमा अधिनियम, 1938 की धारा 4 के प्रावधानों के अधीन होगी. यदि उपर्युक्त पैरा 10.Vii) में (a) से (c) तक वर्णित लागू होने वाली धनराशि वार्षिकी की न्यूनतम धनराशि को क्रय करने के लिए अपर्याप्त हो, तो आपको उल्लिखित धनराशि का एकमुश्त भुगतान किया जाएगा.

    3. आपके पास “आईआरडीए से पंजीकृत” किसी अन्य जीवन बीमा कंपनी से तत्काल वार्षिकी क्रय करने का विकल्प भी विनियामक प्रावधानों के अधीन उपलब्ध होगा. ऐसी स्थितियों में LIC आपके फंड मूल्य को सीधे चुने हुए बीमाकर्ता को स्थानांतरित कर देगी. यदि आप किसी अन्य जीवन बीमा कंपनी से तत्काल वार्षिकी क्रय करने का विकल्प चुनते हैं, तो आपको अपनी ऐसी इच्छा की सूचना निगम को पेंशन निहित होने की तिथि से छः माह पूर्व देना आवश्यक होगा.

    7. पुनःस्थापन: एक बार अभ्यर्पित की गई पॉलिसी को पुनः स्थापित नहीं किया जा सकता है.

    8. पॉलिसीधारक द्वारा उठाए जाने वाले जोख़िम:

    • » LIC का पेंशन प्लस एक यूनिट संबंधित जीवन बीमा उत्पाद है जो पारंपरिक बीमा उत्पादों से भिन्न है और जोख़िम कारकों के अधीन है.
    • » यूनिट संबंधित जीवन बीमा पॉलिसियों में दिया गया प्रीमियम पूँजी बाज़ार के साथ जुड़े हुए निवेश जोख़िमों के अधीन है और यूनिटों का एनएवी फंड की   निष्पादकता तथा पूँजी बाज़ार को प्रभावित करने वाले कारकों के आधार पर बढ़ या घट सकता है और बीमित व्यक्ति अपने निर्णय के लिए उत्तरदायी होता/होती है.
    • » भारतीय जीवन बीमा निगम केवल बीमा कंपनी का नाम है और LIC का पेंशन प्लस केवल यूनिट संबंधित जीवन बीमा संविदा का नाम है और यह किसी  भी प्रकार से संविदा की गुणता, भविष्य की संभावनाओं या प्रतिफल का द्योतक नहीं है.
    • » कृपया सहयोजित जोख़िमों तथा लागू होने वाले प्रभारों के बारे में जानकारी अपने बीमा एजेंट या मध्यस्थ या बीमाकर्त्ता के पॉलिसी प्रलेख से ले लें.
    • » इस संविदा के अंतर्गत प्रस्तुत विभिन्न फंड्स केवल फंड्स का नाम हैं और किसी भी प्रकार से इन योजनाओं की गुणता, भविष्य की संभावनाओं और  प्रतिफलों की द्योतक नहीं हैं.
    • » इस पॉलिसी के अंतर्गत सभी हितलाभ कर क़ानूनों और अन्य वित्तीय विधानों के भी अधीन हैं जो समय-समय पर लागू हों.


    9. कूलिंग ऑफ़ अवधि: यदि आप पॉलिसी के “निबंधनों तथा शर्तों” से संतुष्ट न हों, तो आप 15 दिन के भीतर पॉलिसी हमें लौटा सकते हैं. पॉलिसी के कूलिंग ऑफ़ अवधि में लौटाए जाने की स्थिति में देय राशि का निर्धारण इस प्रकार किया जाएगा:

    • » पॉलिसीधारक के फंड में यूनिट्स का मूल्य
    • » धन आवंटित न किया गया प्रीमियम,
    • » धन काटा गया पॉलिसी प्रबंधन प्रभार
    • » ऋण पॉलिसी की कुल अवधि के दौरान देय कुल प्रीमियमों पर प्रभार @ रु.0.20 प्रति हज़ार

    10. ऋण: इस तालिका के अंतर्गत कोई ऋण उपलब्ध नहीं है.

    11. समनुदेशन: इस तालिका के अंतर्गत समनुदेशन की अनुमति नहीं होगी.